Desi Khani

बाथरूम मई कौन है

ही, थिस इस विकी, जैसा की आप जानते ही है की मई २२ साल का हूँ, मगर ये मेरा पहला सेक्स एक्ष्पेरिएन्के था तब मई सिर्फ़ १७ साल का था, और स्कूल मई पड़ता था. मेरी तेअचेर जो की उस वक्त करीब २३ साल कित ही, और मेरी कालोनी मई ही रहती थी, मई उसको दीदी बोलता था, उसने हमारे स्कूल मई अस अ साइंस तेअचेर ज्वाइन किया, जब वोह पहले दिन स्कूल मई ई तोह. सबको अपना इन्त्रोदुक्शन देते हुए बोली. ही, इ ऍम निशा.
अब एपी लोग अपना इन्त्रोदुक्शन दीजिये.हम सबने अपना-अपना इंट्रो दिया. तोह व्हो मुजसे बोली की अर्र्री मई तुमको को तोह जानती हूँ , फिर वो मुड़कर क्लास अत्तेंदन्स लेने लगी . करीब २०/ २५ दिन बाद उन्होंहेय मुझे कहा की तुम मुझे घर जाने साईं पहले मिलना, मैंने क्या ” काया बात है दीदी” तोह बोली की तुम साइंस मई बहुत ही कमजोर हो और पास भी होना मुस्किल है, तोह मैंने कहा की व्हो तोह मुझे मालूम है अब आप बताऊ की काया कर्रू मई, तोह उन्होंने बोला कित उम आज साईं मेरे पास शाम को पड़ने आ जाया करो. मैंने कहा टीक है मई आज साईं ही आ जौनगा. फिर मैंने उनके पास तुसैओं लेना शुरू कर दिया, करीब २० दिन बाद मई जब टूटें के लिए उनके घर गया और बेल बजाई तोह कोई रेस्पोंसे नही मिला, मैंने दूर को दक्का दिया तोह व्हो खुला हुआ था, मई अन्दर चला गया तोह मैंने स्वर की आवाज़ सुनी, कोई और उनके घर माहि नही था.
तभी मरे मन मई आया की मुझे देखना चैये की बाथरूम मई कौन है , सो मई उस तरफ़ चल पड़ा, मगर मुझे कुछ भी दिकाही नही दिया, मगर जैसे ही मई वापस मुड़ने लगा, दरवाजा खुला और उस मई साईं दीदी निकली, व्हो उस वक्त सिर्फ़ पैंटी पहनी हुए थी, मुझे देखते ही व्हो चिल्लाई की तू यंहा काया कर रहा है.. और जब उनको अपनी पोसिशन का ध्यान आया तोह व्हो वापस बाथरूम मई गुस गई, तब तक मेरा कमसिन लुंड खड़ा हो चुक्का था. मई वापस द्रविंग रूम मई आ गया, थोडी देर मई व्हो कपड़े पहन कर वंहा ई और बोली की गनती नही बजा सकता था काया, ऐसे कैसे गुस आया तू, मैंने कहा दीदी सॉरी बुत मैंने बहुत देर तक गनती बजी थी मगर कोई रेस्पोंसे नही मिला तोह आ गया और आप को देख लिया, तोह वोह बोली काया देखा मैंने कहा दीदी मैंने आपके सिर्फ़ बोबे देखे है, व्हो बोली की किसी को बताना मत की तुने ऐसा कुछ देखा है, मैंने कहा की दीदी वो एक बार और दिखा दो न, मैंने देख तोह लिए ही है, व्हो बोली नही तू अभी बहुत छूता है अपनी पडी कर. मई चुपचाप वापस आ गया.
दुसरे दिन स्कूल मई उन्होंने मुझे कहा की आज तू २ बजे पड़ने आ जन, मैंने कहा टीक है, स्कूल पुरा होते ही मई खाना खा कर उनके घर चला गया, व्हो उस वक्त खाना खा रही थी, मैंने पुचा की सब लोग कान्हा गए तोह वो बोली की सब बहार गए है मगर तू घर साईं नहा कर क्यों नही आया, मैंने कहा की मई तोह शाम को नाता हूँ, तोह बोली की तुज मई साईं बदबू आ रही है यही बाथरूम मई जा कर नहा ले, मैंने कहा की यंहा कैसे नहा लूँ , मेरे पास कपड़े नही है, तोह व्हो बोली नहने कई लिए कपड़ो की काया जरुरत है. तब तक मई समाज गया की लाइन कलिर हो रही है. मैंने कहा की बदबू आप को आ रही है मुझे नही तोह इसको दूर भी आप ही कर दो, तोह वोह बोली टीक है मगर तू किसी को बोलना मत, मैंने कहा मई क्यों बोलूँगा. फिर हम दोनों बाथरूम मई आ गए, उन्होंने ने मेरी टी- शर्ट उत्तरने को कहा, तोह मैंने कहा की आप ही उत्तर दो, उन्होंने ने मेरी टी- शर्ट उत्तर दी, तोह मैंने कहा, ” दीदी आप कई भी कपड़े भेग जायेंगे इनको भी उत्तर दो, तोह व्हो मुस्कुराती हुई बोली तू सब जनता है, तोह ख़ुद ही उत्तर डे, मैंने फ़ौरन उनका कुरता फाड़ते हुए उत्तर दिया, अब व्हो सिर्फ़ ब्रा मई मेरे समाने थी, उन्होंने मुजसे कहा की तू पहला आदमी है जो मुझे एस कांदिसिओं मई देख रहा रहा है , मेरे घरवाले मेरे लिए आज लड़का देखने गए है, मैंने कहा दीदी आप भी पहली लड़की हो जो मुझे एस तरहे देख रही हो, फिर हम दोनों ने कसम खाई की हम एस बारे मई किसी को कुछ नही कहेंगे.
फिर व्हो बोली अब तू जो करमा छठा व्हो मेरे साथ कर ले, मैंने कहा दीदी मुझे तोह कुछ भी नही अत, आप बताओ, तोह वोह बोली हमारे पास ३ जानते है, जो तू करमा चाय वो तू कर ले और जो मई करमा चुंगी व्हो मई करुँगी, फिर मैंने उनके बूब्स अपने मुह मई ले लिए और चूसने लगा वोह मेरी पीठ पर हाथ फार रही थी, तभी उन्होंने ने मेरी पन्त को खोल दिया और बोली अब मई करुँगी, और मेरी चड्डी और पन्त ऊतर कर बाथरूम के बहार फेक दी, अब हम दोनों अदम जाट नंगे थे, २५ मं. तक हम दोनों एक दुसरे तो किस करते रहे, व्हो मुझे जायदा कर रही थी, फिर व्हो बोली चल अब पलंग पर चालित है, वोह मुझे पलंग पर ले गई और सीडी लेट गई, और बोली की अब तू मेरी छूट चाट, मैंने कहा दीदी मई नही चतुन्गा, तोह व्हो बोली मई तेरा लैंड भी तोह चतुंगी मैंने कहा पहली आप करो, तोह वह फ़ौरन शुरू हो गई, करीब १५ मं के बाद व्हो बोली अब तू चाट, तोह मैंने भी उनकी छूट को चाटना शुरू कर दिया तोह व्हो आआआआह्ह्हाआआआ आ, ओफ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ़, अक्चीईईईई तर्ह्ह्य्य्य्य्य्य्य्य्य्य्य्य्य्य यी चाट, ऐसे आवाज़
निकलने लगी, फिर उन्होंने मुझे कहा की अब तू मेरे ऊपर आ जा और कम पुरा कर क्युकी घरवाले आने वाले है, मैंने फ़ौरन अपना लैंड उनकी छूट मई डालने की कोसीसी की मगर वोह बहुत टाइट थी, मेरे मोटा लैंड जा ही नही सका, तोह व्हो उत्ती और बोली कित उ बनता तोह बच्चा है मगर है नही, और तेल ले कर ई, और मेरे लैंड और अन्प्जी छूट पर नेकी अक्भर बीचा कर लगा दिया.
अब व्हो सीडी लेट गई और बोली अब जल्दी कर वरना कुछ नही होगा और कोई आ जाएगा, मैंने फ़ौरन अपना लैंड छूट पर टिकाया और एक जोर डर दक्का दिया तोह वोह चीक पड़ी, मैंने देखा तोह उनकी छूट साईं खून निकल रहा था, और उनकी अख्कू मई अस्सों आ गए थे, ,मैंने कहा काया हुआ तोह व्हो बोली बेफकूफ इतनी जूर साईं डालते है के मेरी जान निकल गई. मैंने कहा मुझे पता नही था दीदी, तोह व्हो बोली मुझे भी कान्हा पता था मई भी तोह पहली बर्र करवा रही हूँ, फिर मैंने
धेरे धेरे अपना लैंड उनको छूट मई डाला, व्हो भी आआआआआह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह आआआअ करते हुए कोप्रते करने लगी. करीब २० मं बाद व्हो बोली की मेरा तोह पानी निकल गया, अब तुब ही जल्दी कर,
मैंने कहा बस मेरा भी निकलने वाला है, और १० मं बाद मैंने भी उनकी चुद मई ही अपना पानी चुद दिया, और हम दोनों एक दुसरे साईं चेपक गए, थोडी देर बद्द हम नहा कर जैसे ही बाथरूम साईं बहार निकले घर की बेल बजी, हमने जल्दी साईं कपड़े पहने और टेबल पर पहुच गए, दीदी ने दरवाजा खोला तोह उनकी नौकरानी दरवाजे पर कड़ी थी.
व्हो बोली मैडम इतना टाइम कैसे लग गया गेट खोल ने मई, तोह दीदी बोली की मई एस को पड़ा रही थी,, एस बीच हमसे एक गलती हो गई थी की हमने बाद की चद्दर नही बदली थी जिस पर की थिदा सा दीदी का ब्लड सील टूटने के कारन लग गया था , मैड सर्वेंट जिसका की नाम सविता था लेकर बहार आ गई और बोली की मैडम आपको कही लग गई काया जो ये कनून निकल गया साथ ही मुस्कुराती जा रही थी, अब दीदी की हालत ख़राब हो गई तोह मैंने कहा तुमको काया मतलब है तोह वोह सविता बोली मुझे सब पता लग गया है मगर गब्रावू मत मई किसी को नही बतौऊंगी. और उसने अपना वडा निभाया भी, कुछ दिन बद्द मैंने उसको अपने घर पर काम डे दिया, और उसको भी कम मई ले लिया, एस बेच मई दीदी और मई भी अपना काम करते रहे और उनकी वझे साईं मुझे ६५% मार्क्स मिली, कुछ दिन बाद उनकी शादी हो गई मगर हम दोनों फिर भी अपना कम करते रहे और आज उनके पास मेरे बच्चा है, जो की मेरी वझे साईं पैदा हुआ है, उसका नाम भी उन्होने मुजसे
पुच कर रखा है अभिषक. अब व्हो ३४ साल की है और मई २२ का मगर हमारा गेम अभी भी चालू है,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *