Desi Khani

indian sex stories

Dost Ki Girlfriend Ko pata kar Choda – A Hindi Sexy Story

aunty sex stories, desi sex stories, hot sex stories, indian sex stories
कहानी तीन साल पहले की है, सुनील मेरा बिजनेस पार्टनर था। एक दिन उसने एक लड़की को डिनर पर बुलाया और रेस्टोरेन्ट में बैठा कर मेरे पास आ गया। रेस्टोरेन्ट हमारे ऑफ़िस के पास ही था इसलिये वो जल्द ही मेरे पास आ गया और मुझे भी साथ चल्ने के लिए कहने लगा।मैंने बोला- मैं क्या करूँगा यार वहाँ जाकर ! वह तो तुम्हारी गर्ल फ़्रेन्ड है तुम ही मस्ती करो।सुनील बोला- नहीं यार, चलो, उसके साथ उसकी एक सहेली है, तुम उसके साथ सेटिंग कर लेना।उसके द्वारा काफ़ी दबाव डालने के बाद मैं उसके साथ चला गया। मैं जाकर देखता हूँ कि सुनील की गर्ल फ़्रेन्ड उर्वशी बहुत ही खूबसूरत थी। एक बार तो मैं भी हैरान रह गया कि इतनी खूबसूरत लड़की इसे कहाँ से मिल गई।मैं उसके बगल में बैठ गया और बातें करने लगा। मैं तो उसकी सहेली अनीता को फ़ोकस कर रहा था इसलिये मेरा दिमाग उसकी तरफ़ लगा हुआ था। लेकिन ऐसा कुछ हुआ नहीं कि मेरी सेटिंग उसके साथ हो जा

मैं चुप रहूँगा ( hindi sexy story )

aunty sex stories, bhabhi stories, desi sex stories, desi stories, hindi moral stories, hindi saxy story com, hot sex stories, hot stories, indian sex stories
कॉलेज में हड़ताल होने की वजह से मैं बोर हो कर ही अपने घर को कानपुर चल पड़ा। हड़ताल के कारण कई दिनो से मेरा मन होस्टल में नहीं लग रहा था। मुझे माँ की बहुत याद आने लगी थी। वो कानपुर में अकेली ही रहती थी और एक बैंक में काम करती थी। मैं माँ को आश्चर्यचकित कर देने के लिये बिना बताये ही वहां पहुँचना चाहता था।शाम ढल चुकी थी। गाड़ी कानपुर रेलवे स्टेशन पर आ गई थी। मैंने बाहर आ कर जल्दी से एक रिक्शा किया और घर की तरफ़ बढ़ चला।घर पहुँचते ही मैंने देखा कि घर के अहाते में मोटर साईकिल खड़ी हुई थी। मैंने अपना बैग वही वराण्डे में रखा और धीरे से दरवाजा को धक्का दे दिया। दरवाजा बिना किसी आवाज के खुल गया। मैंने अपना बैग उठाया और अन्दर आ गया। अन्दर मम्मी और एक अंकल के बातें करने की और खिलखिला कर हंसने की आवाज आई। बेडरूम अन्दर से बन्द था। घर में कोई नहीं था इसलिये अन्दर की खिड़की आधी खुली हुई थी क्योंकि इस समय हमारे घ

रेखा- अतुल का माल ( sexy story)

aunty sex stories, bhabhi stories, desi sex stories, desi stories, hindi moral stories, hindi saxy story com, hot sex stories, hot stories, indian sex stories
दो बजने से 5 मिनट पहले ही घंटी बजी। सामने अतुल, उनकी पड़ोसन रेखा और सरीना खड़ी थीं। सरीना के हाथ मैं एक बैग था जिसमें कुछ कपड़े थे।हम लोग अन्दर आ गए, सरीना ने मेरा परिचय अतुल और रेखा से कराया। रेखा एक सांवले बदन की 28-29 साल की छोटी-छोटी चूचियों वाली पतली दुबली महिला थी।हमने कोल्ड ड्रिंक और चिप्स का नाश्ता किया।फ़िर सरीना बोली- आप लोग कपड़े बदल लो !बैग में से दो लुंगी निकाल कर उसने हमें दे दीं। सरीना ने दोनों के कान में कहा- आप अंदर जाकर सिर्फ लुंगी पहन लो !हम लोग अंदर अपने सारे कपड़े उतार कर सिर्फ लुंगी पहन कर आ गए।सरीना बोली- रेखा जी, आप थोड़ी शरमा रही हैं, आप साड़ी उतार दें और मैं आपको पेटीकोट ब्लाउज देती हूँ ! उन्हें पहन लें नहीं तो आपके कपड़े ख़राब हो जाएँगे, थोड़ी देर पेटीकोट-ब्लाउज में रहेंगी तो शर्म भी छूट जाएगी।थोड़ा न-नुकुर के बाद रेखा ने अंदर जाकर कपड़े बदल लिए। अब वह गहरे गले के ब्लाउज औ

एक के ऊपर एक ( sexy story )

aunty sex stories, bhabhi stories, desi sex stories, desi stories, hindi moral stories, hindi saxy story com, hot sex stories, hot stories, indian sex stories
मेरा नाम अर्जुन है, मैं शहर में काम करता हूँ।मेरी चचेरी बहन का नाम शिप्रा है, वो बहुत ही सेक्सी है।मैं आपको एक बार की बात बताता हूँ, शिप्रा एम बी ए करके घर आई हुई थी और मैं भी घर पर ही था। जब भी वो नहा कर निकलती, मैं उसे जरूर देखता और आँखों आँखों में उसे नंगी करके चोदने लगता।मैं हमेशा उसके करीब जाने की कोशिश करता पर घर पर काफ़ी लोग होने की वजह से गड़बड़ हो जाती। अब मुझे पता चला कि उसे बैंक सर्विस के लिए तैयारी करनी है।तो मैंने कहा- जहाँ मैं रहता हूँ वहाँ काफी कोचिंग संस्थाएँ हैं और मैं भी काफी अच्छे से तैयारी करा दूँगा।पर मेरे मन में तो लड्डू फूट रहे थे !पर घर में कई लोगों ने कहा- शिप्रा को अलग कमरा दिला देना।मुझे इससे बेचैनी होने लगी, मैंने कहा- अलग अलग रहेंगे तो खर्चा दोगुना होगा, साथ साथ रह लेंगे घर पर !सब मान गए, पर घर से दोनों को सब सामान अलग अलग मिल गया जिससे कोई चीज़ आपस में बाँटना न